emotional broken 💔 heart shayari|emotional shayari

Emotional broken 💔 Shayari

अफसोस 😔नहीं उस बात का कोई आके ही चले जाते है,
कोई जीते है मौत के लिए तो कोई मरके भी जी जाते है|

बैठे हैं चैन से कही जाना तो है नही
हम बेघरों का तो ठिकाना है नही
वो जो हमे पसंद है कोन है, कैसा है
क्यु पूछते हो, हमे बताना तो है नही

ख्वाहिश तो ना थी,
किसी से दिल❤️ लगाने की,
किस्मत मे दर्द लिखा था,
मोहबत केसे ना होती😭😭

Love ShayariBewafa shayari
Emotional Sad ShayariHeart touching shayari
Haryanvi Status Purpose Shayari

Download our

उसको भुला कर मुझको ये मालूम हुआ है,
आदत कैसी भी हो, छोड़ी जा सकती है!

emotional broken
emotional broken

इस बार वो लौटकर आई तो
सीधा गले लगा लूँगा उसे_!!

Emotional broken heart Shayari

जनाब…! शराब तैयार रखना,
लड़का मोहब्बत करने गया है!

Raahat Indori Shayari

छोटी सी ज़िंदगी के फ़साने बहोत हैं
हम रोते नहीं हैं रुलाने वाले बहोत हैं
दिल तड़पता रहता हैं रात-ओ-दिन
क्या बोले दिल के तराने बहोत हैं

वो खुद को शहज़ादी समझ रहीं हैं
जिसकी औकात नौकरानी की नहीं
शहज़ादे से इश्क़ करने चली हैं वो
जिसकी औकात चपरासी की नहीं

न शिक़वा चाहिए न शिकायत चाहिए
ख़ुद पर आ जाए तो क्या क्या न चाहिए
यार मैं तेरी नज़रों को पहचानता हूँ
धोखा फ़रेब बेवफ़ाई मुझे नहीं चाहिए

आशोब-ए-हुस्न की भी कोई दास्ताँ रहे
मिटने को यूँ मिटें कि अबद तक निशाँ रहे

तौफ़-ए-हरम में या सर-ए-कू-ए-बुताँ रहे
इक बर्क़-ए-इज़्तिराब रहे हम जहाँ रहे

उन की तजल्लियों का भी कोई निशाँ रहे
हर ज़र्रा मेरी ख़ाक का आतिश-ब-जाँ रहे

क्या क्या हैं दर्द-ए-इश्क़ की फ़ित्ना-तराज़ियाँ
हम इल्तिफ़ात-ए-ख़ास से भी बद-गुमाँ रहे

मेरे सरिश्क-ए-ख़ूँ में है रंगीनी-ए-हयात
या रब फ़ज़ा-ए-हुस्न अबद तक जवाँ रहे

मैं राज़दार-ए-हुस्न हूँ तुम राज़दार-ए-इश्क़
लेकिन ये इम्तियाज़ भी क्यूँ दरमियाँ रहे

emotional hindi sad shayari

क़दम क़दम पर तुम्हें पुकारता हूँ
दिल को करार आए तो मैं रुकू
ये दिल था क़भी मर्ज मोहब्बत का
अब यहाँ मैं बेकार में क्यू रुकू

ये ज़िंदगानी मुझे रास नहीं आई
सालों से उम्मीदों की समर नहीं आई
हर बार मौजे सबा पास से गुज़री हैं
लेक़िन मेरे होठो पे मुस्कान नहीं आई

पुराना जख़्म न दिखाओ
आने वाले डरते हैं
अब हम मौत से नहीं डरते
ज़िंदगी से डरते हैं

emotional broken
emotional broken

★अज्ञात…✍★:
मत हो उदास इतना किसी के लिये… ए दिल
किसी के लिए जान भी दे देगा तो लोग कहेंगे इसकी उम्र ही इतनी थी
★अज्ञात…✍★

इसलिए भी पाल रखा है तेरे इश्क का
झूठा वहम…
कि, फिर क्या बचेगा जिंदगी में ये झूठ खत्म हो जाने के बाद।

Download our app

ख़ुदा के लिए हम पे डोरे न डालो
हमें ज़िंदा रहने दो ऐ हुस्न वालो
(उस्ताद नुसरत फतेह अली खाँ)

फ़िर छा गए हैं गमों के काले बादल
फ़िर दिल में एक शोला भड़का हैं
राहों में मैंने चराग़ों को बुझते हुए देखा
फ़िर एक उदासी का दिया जला

मानो हमारा कहना
तुम हमसे दूर रहना

लटक रहीं हैं वक़्त की तलवार गर्दन पर
हर दिन ऐसा लग रहा हैं जैसे सज़ा हो
दिल की ख्वाहिशों का यहाँ मोल नहीं हैं
अरमानों का रंग यहाँ फ़ीका पड़ा हुआ हैं

प्यार इश्क़ मोहब्बत वफ़ा के तराने हैं
झलक रहीं हैं तेरी सूरत हवाओं में
कान में मेरी कोई सदाए दे रहा हैं शायद
ये मेरा वहम हैं या कुछ समझ नहीं आ रहा

कैसे मोहब्बत के लम्हें थे इरफ़ान
हाय ये कैसी बेबसी की घड़ियां हैं
आसमान में सीतरे टिमटिमा रहे हैं
आँखो में आसुओं की लड़िया हैं

चाँद सितारे ठंडी हवाएं
कैसी हसीं हैं ये रात
देखों गिर रही हैं बूंदे पानी की
होश में क्यू नहीं हो आप

अगर किसी का साथ
ना मिले तो मेरे पास चले आना
हम मोहब्बत से ज्यादा
दोस्ती का रिश्ता
अच्छी तरह से निभाते है !!

कभी मौत आयी तो मिलेंगे तुझसे
जिंदगी से तो वैसे भी कोई उम्मीद नहीं रही अब।

मेरी आंखों से देख
जमाने पर ना जा,
इश्क मासूम है
इल्ज़ाम लगाने पर ना जा।

देख तुझे जली हैं शमा मेरे दिल की
तेरे आते ही धड़कने बढ़ी मेरे दिल की

क्या उसने देखा है
क्या उसने जाना है,
हम खाक नशों की तो
ठोकर में जमाना है। 😅

emotional broken
emotional broken

“हम इतने तो हसीन नही की” ,
हम पे हर कोई फिदा हो जाए!!
‘मगर हाँ,
‘जिसे हम आँखे भर के देख ले..,
‘उन्हे हम उलझ मे दाल देते है!.
❤🎋🌹

तू मिल जाए मुझे बस इतना ही काफी है​,
मेरी हर साँस ने बस ये ही दुआ माँगी है​,
जाने क्यूँ दिल खिंचा जाता है तेरी तरफ​,
क्या तूने भी मुझे पाने की दुआ माँगी है​।

घुमा फिरा कर हम बात नही करते
हम सीधा मुद्दे की बात करते है

किसी के आगे पीछे घूमने की आदत नही,
हम काबिलियत के जोर पर चलते है

बड़े ओहदों की जरूरत नही है हमे,
हम जहा है वही से ओहदे शुरू होते है

मानते है दौलत नही कमाई हमने,
लेकिन अल्लाह ने इज्जत बक्शी है हमे

न गीबत करते है,न बुराई करते है किसी की
कहना जो भी होता है सामने कहते है

साधा मिजाज है हमारा
हम सादगी से ही
मुहब्बत करते है

यहाँ ज़िस्म के पुजारी हैं दौलत के गुलाम हैं
जो डरते नहीं हैं जहन्नम की आग से
अपने लिए तो जन्नत बना दी दुनियां में
औऱ आस रख़ते हैं खुदा के जन्नत की भी

जज्बातों की तकमील नहीं हो सकती
ज़िंदगी मौत हैं एहसास नहीं हो सकती
आसाब की तस्कीन हैं तौहीन ऐ हयात
हैवानीयत इंसांनीयत नहीं हो सकती

शमा की तरहा जलते हुए दिल देखें
अश्क़ बन के निकलते हुए लहू देखें
तूने देखी ही नहीं गरमी मोहब्बत की
मैंने इस आग में जलते हुए इंसान देखें

क़भी समंदर तड़प जाता हैं
क़भी रेत लिपट जाती हैं
इन्हें आता नहीं आग़ोश में लेना
मौजे मुझे साहिल पे पटक देती हैं

“प्यार तो हमने भी किया था,
“पर हम भूल गये थे की हीरोइन कभी,
विलेन की नही होती!

मैंने किया था इश्क जीने के वास्ते
कर के पता चला कि ये तो मरने की बात थी।

वो रास्ते मीलि तो मुस्कुरा दिया देख कर,
बहुत रोया लेकिन घर जाने दिया

emotional broken
emotional broken

पहेले लोग आपकी जिंदगी में आती हैं
आपसे बातें करते हैं
आपसे मज़ाक करते हैं
औऱ फ़िर उसी मज़ाक मज़ाक में आपकी
ज़िंदगी का मज़ाक बना देते हैं

तुम्हें हम भी सताने पर उतर आए तो क्या होगा
तुम्हारा दिल दुखाने पर उतर आए तो क्या होगा
हमें बदनाम करते फ़िर रहे हो अपनी महफ़िल में
अगर हम सच बताने पर उतर आए तो क्या होगा

सरहदे जमीं की होती होगी,
दिल की कोई सरहद नही होती |
खून फिर भी बहता हैं जनाब,
मुहोब्बत की जंग इतनी भी आसान नही होती।

प्यार में कभी मत पड़ो भाई…. इंसान के दिमाग में पैदा होती है ये सबसे खराब भावना… जो आपको तबाह कर देगी लेकिन आपको कभी एहसास नहीं होगा…

“अब तो बारीश भी आ गयी, 🌨
“तुम कब आओगी.? 🥺

ये नजर चुराने की आदत आज भी नही बदली उनकी …
कभी मेरे लिए जमाने से और अब जमाने के लिए हमसे…

इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है, इश्क मेरी रुह, तो दोस्ती मेरा ईमान है, इश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी जिंदगी,पर दोस्ती पर, मेरा इश्क भी कुर्बान है

I love my life .:
एक अजीब सा मंजर नज़र आता हैं … हर एक आँसूं समंदर नज़र आता हैं कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना .. हर किसी के हाथ मैं पत्थर नज़र आता हैं

तुम्हें इस्लाह की ज़रूरत हैं
तुमने अदब नहीं सीखा हैं
शायर तो तुम बन गए हो पर
तुमने इज़्ज़त करना नहीं सीखा हैं

मेरे चेहरे मेरा दर्द नही पढ़ पाओगे,
मुझे आदत है हर बात पे मुस्कुराने की!.

हम अक्सर हसा देते है उदास लोगो को,
हम से हमारे जैसे लोग देखे नही जाते!

ठुकराया हमने भी बहुत को है तेरी खातिर,
तुझसे फासला भी उन सब की बददुआ का असर है!.

हर बार पूछने वालो,.
मेरे बाबू ने खाना खाया क्या? ,
एक बात तो बताओ,
कभी एक ग्लास माँ को पानी पिलाया क्या? .

दर्द💔 हमे भी होता है, फर्क सिर्फ इतना है तुम आसुंओ😰 मे तकदिल करते हो,
और हम मुस्कुरा😌 के ज़ाहिर करते है

𝓘𝓻𝓯𝓪𝓷 𝓐𝓵𝓪𝓾𝓭𝓭𝓲𝓷:
जैसे ताश में पत्ते बहोत हैं
वैसे मेरे पास लफ़्ज़ बहोत हैं
कहाँ तक सुनोगे तुम बातें मेरी
मेरी ज़िंदगी में किस्से बहोत हैं

उम्र नही थी meri इश्क़ करने की साहेब
बस एक चेहरा देखा और गुनाह कर बैठे!.

मुझे अच्छा नही लगता
तेरा किसी औऱ से बात करना
दिल जलता रहता हैं मेरा
तुम क़भी तो देखने आना

उसे झुमके पसंद हैं मुझे कंगन पसंद हैं
उसे मकान पसंद हैं मुझे आँगन पसंद हैं
आँगन में कोई न हो तो मुझे हुस्न पसंद हैं
हुस्न उसके साथ हो तो मुझे साजन पसंद हैं

किसी से उलझने का मन नहीं करता अब,
चलिए आप सही, मैं गलत बात ख़त्म.

कितने आराम से छोड़ दिया तुमने
मेरे चैनल को
जैसे सदियों से कोई बोझ था तुम
पर

सच्चे रिश्ते की खुबसूरती
एक दूसरे की गलतियों को
सहन करने में है क्योंकि
बिना कमियों के इंसान
ढूढने निकले तो जिंदगी भर
अकेले ही रह जाओगे …!

अगर मेरी चाहतो के मुताबिक जमाने में हर बात होती
तो बस मै होता तुम होती और सारी रात बरसात होती

बड़ी दिक़्क़त हो रहीं हैं तुम्हें मुझसे
क्या बात हैं…..?
जवाब नहीं दे रहें हो सवाल का तुम
क्या बात हैं…..?
हर एक को ब्लॉक किए जा रहीं हो
क्या बात हैं…..?

दिल में जो हैं तुम्हारे बता दो मुझे
नाराज़ हो या दुश्मनी निकाल रहे हो

कुछ शब्द अनकहे तेरे मेरे कुछ अनसुनी बातें तेरी मेरी…

कुछ छुपा छुपा सा इश्क़ तेरा मेरा कुछ शाम ढलते महसूस अहसास तेरा मेरा !!

एक तुमको ही तो तलब से देखते हैं हम,,
बाकी हर किसी को बड़े अदब से देखते हैं हम…!!

जाने क्यों, उम्मीद लगायें बैठे हैं लोग,
मुझे तो यक़ीन नही, मेरा महबूब लौट आयेगा.

emotional broken