Very Sad Shayari in Hindi (October) 2021 सैड शायरी

Very Sad Shayari on love

दोनों ही मजबूर रहे अपने अपने दायरे में….
एक इश्क़ कर न सका
एक इश्क़ भुला न सका….

मत करो हमसे यूँ
बेगानो सा सलूक
खबर हमे भी है
हम आपके कोई नहीं

जो पास में थे उनसे
दूरी हो गई है
ना जाने मोहब्बत मेंये
कैसी मजबूरी हो गई है..?

मजबूर नहीं करते तुम्हें
बात करने के लिए
अगर चाहत होती तो
दिल तुम्हारा भी करता

love shayarihert touching shayari
Bewafa shayariharyanvi status
emotional shayariDownload our app

Raahat Indori Shayari

संभाला था खुद को ,
तेरे लिए अक्सर,
अब संभालते है खुद को,
तेरे जाने के बाद

खरीददार बहुत थे इस दिल के,
बेच देते अगर इसमें तुम ना होते

मत किया कर इतनी उम्मीद किसी और से,
हर किसी की यहां अपनी अलग दुनियां है

तेरी बेवफाई में थोड़ा टूट गई हूं,
पर इसका ये मतलब नहीं…
किसी और को बाहों में ले लूं तुम्हारी तरह…!!

खामोशियां बेवजह नहीं होती है,
कुछ दर्द ऐसे होते हैं…
जो आवाज़ छीन लिया करते हैं…!!!

लफ्ज़ जब बरसते हैं बन कर बूँदें !
मौसम कोई भी हो मन भीग ही जाता है !!

दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे !
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया !!

जैसे निकलती है हवा सूखे पत्तो से
वैसे ही आँखो से ख्वाब होकर निकलते गये !
बिना माँगे ही दुख मिला हैं बहुत ए रब्बा !
बस एक प्यार ही ना मिला जो हम माँगते रहे !!

आँसू मुस्कुराहट से ज्यादा अच्छे होते है जानते हो क्यूँ !
क्यूँकि मुस्कुराहट सभी के लिये होती है !
और आँसू किसी खास के लिये होते है

इतना रोया मेरी मौत पे मुझे जगाने के लिए !
मे मरता ही क्यूं अगर वो रो देता मुझे पाने के लिए

ले लो वापस, ये आँसू ये तड़प और ये यादें सारी !
नहीं हो तुम अगर मेरे, तो फिर ये सज़ाएं कैसी

लगता है भूल चूका हूँ, मुस्कुराने का हुनर !
कोशिश जब भी करता हूँ, आंसू निकल ही आते है !

Very Sad Shayari
Very Sad Shayari

मत पूछोये इश्क कैसा होता है !
बस यहीं समझ लीजिए जो रूलाता है ना
उसे ही गले लगाकर रोने को जी चाहता है !!

अच्छा हुआ ये आँसू बेरंग है वरना
हर सुबह..मेरे तकिये का बदला हुआ रंग
मेरी तन्हाई की हकीकत ब्यान कर देता !

सुहाना मौसम था हवा में नमी थी
आँसुओ की बहती नदी अभी अभी थमी थी,
मिलने की चाहत बहुत थी उनसे
पर उनके पास वक़्त और हमारे पास सांसो की कमी थी।

आंसुओ से पलके भिगा लेता हूँ !
याद तेरी आती है तो रो लेता हूँ !
सोचा की भुलादु तुझे मगर !
हर बार फ़ैसला बदल देता हूँ !!

रह भी लेते हैं,
रहा भी नहीं जाता है,
उनका ख्याल दिल से,
जाने क्यूं नहीं जाता है…

वो आती नही पर निसानी भेज देती हैं..
ख्वाबो में दास्तां पुरानी भेज देती हैं..
कितने मिठे है उनके यादो के मंजर..
कभी-कभी आखो में पानी भेज देती हैं..

बदले-बदले से लगते हो
क्या बात हो गई ?
शिकायत मुझसे है…!!
या किसी और से,
मुलाक़ात हो गई…!!!

जब नाराज़गी किसी ख़ास से होती है,
तो इंसान चिल्लाता नहीं,
बस….. रो देता है..!!!

अगर आप पर कोई मरता है….
तो कोशिश करो की वो ज़िंदा रहे…!!!

मैंने कब कहा
वो मिल जाए मुझे,
गैर ना हो जाए
बस इतनी सी हसरत है..!!

सिर्फ एक बात का गुरुर था,
कि मैं मोहब्बत हूं उसकी,
बेवफाई करके उसने मेरा
वह गुरुर भी तोड़ दिया…!!

रातभर जागता हूँ एक ऐसे शख्स के लिए जिसे अब
दिन के उजाले में भी मेरी याद नहीं आती!!

माना की मरने वालों को भुला देतें है सभी
मुझे जिंदा भूलकर तुमने तो कहावत ही बदल दी

गुनहगारों की आँखों में झूठे ग़ुरूर होते हैं
यहाँ शर्मिन्दा तो सिर्फ़ बेक़सूर होते हैं

Very Sad Shayari
Very Sad Shayari

कुछ दर्द होना ही चाहिए जिंदगी में
जिंदा होने का अनुमान बना रहता है

एक बात बताओ की मेरे सब्र का इम्तिहान ले रहे हो या
हकीकत में मेरी याद ही नहीं आती

न जाने वो नींद के नशे में इतना कैसे डूब जाते है
हम तो करवट भी बदलते है तो उनकी याद आ जाती है

जिन्दगी भर मुस्कुराने की दुआ मत दीजिये
मुझको पल भर मुस्कुराने की सजा मालुम है।

चाय से आशिक़ी का मेरा
ख्याल नहीं बदलेगा,
साल तो बदलेगा मगर
दिल का हाल नहीं
बदलेगा

चाहत,
फिकर,
सादगी,
वफ़ा,
मेरी इन्हीं आदतों ने
मेरा तमाशा बना दिया..!!!

सोचा था बताएंगे,
हर दर्द तुमको,
पर तुमने तो,
इतना भी न पूछा,
ख़ामोश क्यों हो…!!!

फर्क था,
हम दोनों की मोहब्बत में,
मुझे उससे हीं था,
उसे मुझसे भी था….!!!

आँखे रोती हैं अब मैं नहीं रोता
भिगोती हैं सर से पाँव तक मुझे

न जाने किस की बद दुआ लगीं
बीते लम्हें अब तक याद हैं मुझे

हद्द हैं इक अपनी पहुच की भी
कुछ दिनों से नींद नहीं हैं मुझे

मुतमईन था सहर के आने पर
ये रात ने दाना दाना बिखारा मुझे

तैर कर आया बहोत मशक्कत हू
देखों अब कश्ती डुबो रहीं हैं मुझे

मांगा था जिसे,
उसे ही हमने खो दिया,
देख कर उसकी तस्वीर पुरानी,
ये दिल आज़ फिर से रो दिया..!!!

कुछ इस तरह,
बिखरे हैं हम,
तेरे अलावा कोई और,
हमें जोड़ नहीं सकता …

राहत मिली ना दिल को,
ना चैन-ओ-सुकून मिला,
बारिश भी होती रही रातभर,
और कमबख्त दिल भी जलता रहा..!!

दोस्ती ही अच्छी थी,
लड़ तो लेते थे,
ये मुहब्बत बुरी है,
बड़ी खामोशियाँ है इसमे..!!!..

Very Sad Shayari
Very Sad Shayari

Leave a Comment